कहावतें

  • बुजुर्गों का कहा अर आंवले का खाया देर तै स्वाद दिया करै।
  • गरीब की जोरू सब की भाब्बी अर अमीर की जोरू सब की दाद्दी।
  • सु-सु करने तै बढ़िया है सुद्दा सुसरी कह दो।
  • तीन चीज़ कधी अधूरा नी छोडनी चहिये अन्नी वे फिर तै उभर जां: आग, करज, अर मरज।
  • घर तै बाहर दो चीज़ भोत काम आवै: रोट्टी जो तमने खा ली अर पैसा जो थारी जेम मैं।
  • चीकणी तलवार उसै भींत पै दे मार: सिणक।
  • घोड़े वाले घोड़े वाले चल बटिया, पूँछ उठा कै दे लठिया।
  • कोस चली नी दाद्दा पिसाई।
  • आदमी कू धर कै, कर कै, दे कै, ले कै सोणा चहिये—धर कै धोरै लट्ठ, कर कै दीवा बंद, दे कै दरवाज्जे की कुण्डी, अर ले कै राम का नाम।
  • जुत्ते अर बिस्तर—ये दोनों चिज्जें झाड़ कैई काम मैं लेनी चहियें।
  • काठ की हांड्डी चूल्हे पै बस एक बर ही चढ़ा करै।
  • टके की हांड्डी गयी तो गयी पर कुतिया की जात पिछाणी गयी।
  • गा न बच्छी, नींद आवै अच्छी।
  • घणा छाणने वाला गादळι ही पिया करै।
  • पटवारी की पट-पट बोल्लै कलम दवात बस्ते मैं डोल्लै।
  • गुड मैं भे-भे ईंट मारणा।
  • शकरगंदी बड़ी मंदी, ले ग्ये चोर, पिटी नंदी।
  • कग्गो के कोस्से डाँग्गर ना मरा करते।
  • काणी के ब्याह कू सो जोक्खो
  • जाड्डों का जुकाम खाणे तै अर गर्मी का जुकाम सिर पै तैडे दे कै नहाणे तै जाया करै।

 

error: Content is protected !!